Month: March 2018

Supar

-: श्री गणेशाय नमः :- Film Super एक दिन अचानक वैज्ञानिक प्रोफेसर शुक्ला का किडनैप हो जाता है I इस के सम्बंधित मंत्री सभी पुलिस, अफसरों का एक बैठक बुलाता है I जिसमे एक पुलिस आफिसर को देता है I केश की तहकीकात करने I विजय को पता चलता है कि प्रोफ़ेसर के पार्टनर प्रोफ़ेसर …

Supar Read More »

न्याय

कलयुग मैं देखने को मिल रहा है कि जो लोग अपराध करते हैं वो धनवान हैं पावर फुल हैं ऐसे व्यक्तियों को न अदालत से सजा मिलती हे न भगवान से, इस व्यस्था से क्षुब्ध होकर पचास वर्ष का गरीब सेवा सिंह बृह्म महुरत मैं भगवान शंकर को बुरा भला कह रहा है उनका अपमान …

न्याय Read More »

बेकरारी

न तुझको चैन मिला,न मुझको चैन मिला। ज़ुदा होके हम दोनों ,खूब तडफ़े हैं। सारी सारी रात हम रोते हैं। न तझको खुशी मिली,न मुझको खुशी मिली न तुझको वफ़ा मिली, न मुझको वफ़ा मिली न तेरी आंख लगी, न मेरी आंख लगी। न जाने कब केसे, कहां तुम मिलोगे मेरे टूटे दिल को सांसे …

बेकरारी Read More »

Waqt be waqt tumyaad aanelage

Tu mujko bata. Kya thi meri khata. Phir kyu hogai mujse .tum aise Juda. Yaade Teri satati hai mujko. Baate teri rulati hai mujko. Dard aansoo banke behjane lage. Waqt be waqt tum yaad aane lage. Banke saanse tum mujme samane lage. Waqt be waqt tum yaad aane lage.

Chakali

Maharaja Jayrajsingh ne kai saal pahele mughalo ki dar se apna pura khajana chakali gaav me chhupaya tha.Aur usaki teen paheliya rakhi thi; jisme 1 paheli chakali gaav valo ne suljai thi baki ki 2 paheli unke bas ki baat nahi thi. Pura gaav din raat ek karke khajana k pichhe pade the…na kisi anjan …

Chakali Read More »

hui sham phir lagi talab

हुई शाम फिर लगी तलब हुई शाम फिर लगी तलब, चला रे मैं तो चला क्लब | फुल्ल नाइट मैं करूँगा मस्ती, टेस्ट करूँगा माल गजब ||1|| लेआरे मेरे भाई पिला दे, पैग बना दे, पैग मेरा तू हार्ड बना दे | आज पियूँगा दबा-दबा के, मस्त नजारा है साकी | मेरादिल इश्क में भींगा, …

hui sham phir lagi talab Read More »

बिन तेरे ज़िंदगी बिताना क्या।

बिन तेरे ज़िन्दगी बिताना क्या। मंज़िलें गुम हुईं ठिकाना क्या। फूल मुरझा के झड़ गए हैं अब, ख़्वाब के रंग उड़ गए हैं अब, इन निगाहों को कुछ दिखाना क्या। लोग हँसते हैं दिल दुखाते हैं, ज़ख्म को और छेड़ जाते हैं, दर्द अहबाब को बताना क्या। रोज़ो शब याद करता रहता था, हर घड़ी …

बिन तेरे ज़िंदगी बिताना क्या। Read More »

error: Content is protected !!