मावली

डान्सर- महंगी महंगी गाडियों में आये हे मावाली
सो वाली करे सेविंग तो भी सुरत हे कली
नेता – फुल जेसे होठो से क्यों देती हो हमें गली
तेरे एक ठुमके पे करदु विदेसी बेंक खली

डान्सर- देख ले दुरसे ना करना मुझे छूनेका मन
गलिओ में आशीक खड़े हे मेरे लेके AK-47
मेहु शत्रंज का खेल ना समज तु भोली भली
महंगी महंगी गाडियों में ………..

नेता – लिखादु तेरा नाम सोने की चेन में
दुनिया घुमादु बिठाके चाटर प्लेन में
तेरी खातिर रख लु चार कामवाली
फुल जेसे होठो से ………..

डान्सर – मेरा हुस्न जेसे ज्वेलरी की दुकान
तेरी सूरत हे जेसे भुतीया माकन
पैसे रख तेरे पास में हु देसी दारुवाली
महंगी महंगी गाडियों में …………..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *