जोगी के संग जाणा (हरयाणवी)

इश्क की धुन मैं जोग ले लिया छूट गया पीणा खाणा गात पै राख रमा ली मन्नै ले लिया भगमा बाणा बोल प्रेम के मीठे लागे निखरया रूप निमाणा भूल गई मैं दुनिया दारी जोगी के संग जाणा ओ मनै जोगी के संग जाणा मीठी बोली मनै मार गी दिल नै मेरे चीर गया एक …

जोगी के संग जाणा (हरयाणवी) Read More »