Song

नई पार्टी नए दल के I नए नेता नए कल के II

नया चेहरा नई चाहत I नए अर्मा नई राहत II नई ख्वाहिस नई मंजिल I नया माझी नई साहिल II अलग-सा है आज राहों में धुप का सुनेह्रापन I आएगा ओर भी अब मेरी चाहत में गहरापन II नई सासे नई खुश्बू I नए गेशु नया जादू II नई सुबह नई राते I नई यारी …

नई पार्टी नए दल के I नए नेता नए कल के II Read More »

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… दिया बुझाए जिया जलाए धुल उडाए साझ को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… बाते बनाए मुझको रिझाए शम्मा दिखाए चाँद को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… धुरी पे चुन्नी कि झुला डाले उन्घी लगाए झूले मे बाली बजाए सूरत सजाए आइना बनाए काच को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… प्रीत के गीत से मन मोहे खेत घुमाए रात …

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी Read More »

मै जला, मै जला

मै जला, मै जला , देर शब मै जला I बुझ गए जलने वाले सब-के-सब मै जला II तूने देखा तेरे दर दिएँ जल बुझ गए I क्या देखा नहीं तूने रब मै जला II राख़ अपने बारे में मुझसे पूछ रहा था I मोहब्बत हुई मुझको कब, कब मै जला II चाँद को जब …

मै जला, मै जला Read More »

एक हम है एक आप हो

मोहब्बत के पागल में, एक हम है एक आप हो I दो दिलों के हलचल में, एक हम है एक आप हो II ज़मीन-ए-मोहब्बत में कई इश्क के गुल खिले है I पर सबसे उम्दा फसल में, एक हम है एक आप हो II यादों के दरख़्त में मुस्कान पत्ते, गुल हँसी के I ओर …

एक हम है एक आप हो Read More »

Kbtak

तू रुकेगा कबतक तू झुकेगा कबतक तू थमेगा कबतक तू सहेगा कबतक खुद को तू जान ले न कोई तेरा मान ले जीना तुझे है अगर तो रोज़ मरना जान ले कबतक हां कबतक ,कबतक हाँ……

Aurat Ka Dhokha

Created by :- Mohammad Irfan ज़ालिम ये क्या किया हमें बर्बाद कर दिया | अरमानो के महल को ताराज कर दिया || तेरा न बिगड़ा कुछ भी, वाहों में उसकी जाकर रोते हें हम हमारे , उजड़े हुए जहां पर तूने जिगर को छेद के पार कर दिया | अरमानों के महल को तराज़ कर …

Aurat Ka Dhokha Read More »

ऐ अजनबी..

राहों में आ ऐसे… जैसे कहीं ना मिले बाहों में आ ऐसे… जैसे कहीं दिल मिले ऐ अजनबी…ऐ अजनबी… तुम्हें पाके भी.. ऐसा एहसास न हुआ तुम्हें देखूं तो … ऐसा खयाल ना हुआ है जैसे कोई सपना अपना हुआ ए अजनबी… ए अजनबी…. ढूंढूं तुम्हें… यूं कहीं साथी है अब ये जमीन ये दर्मिंयां.. …

ऐ अजनबी.. Read More »

प्रेम की अगन

प्रेम जाल की अगन में जला के तुझको भष्म करूँ फट स्वाहा, स्वाहा, स्वाहा | जब साम ढले पीपल तले लेकर तुझको मई मस्त करू , फट स्वाहा, स्वाहा,स्वाहा | जब रत हो नदी तट पर तेरे संग रोमांस करूँ , फट स्वाहा , स्वाहा,स्वाहा | प्रेम जाल के अगन में सी सोर पर लेकर …

प्रेम की अगन Read More »