Language: Hindi

KATAHAL

Yah kahaanii hai ek aise premii yugal kii jo apanii suujhabuujh se ek kattarpanthii ke changul se bach nikalate hain. Kahaanii kii shuruuaat MAHAK 24, ke study room se hotii hai jahaa wah bahut pareshaan hai baar baar kayii kitaaben palat rahii hai aur pareshaan hokar phone milaatii hai . Wah , MAHESH 24 se …

KATAHAL Read More »

LoC to afagan border – adream of every Indian

LoC to Afagan border – a dream of every Indian (एक बच्चा पुष्पराज जो कक्षा 8 मे पढता है, स्कूल टीचर क्लास मे कश्मीर के बारे मे बताते है,) टीचर – (कश्मीर का नक्शा बताते हुए) कश्मीर भारत का राज्य है इसकी सीमाएं पूर्व मे चीन व पश्चिम मे पाकिस्तान व उत्तर पश्चिम मे अफगानिस्तान …

LoC to afagan border – adream of every Indian Read More »

pulvama

उन शहीदों की शहादत को, मुश्किल है अब भूल पाना । उठो साथी कूच करो, पुकार रहा है पुलवामा ।। कितनी माँ ने लाल खो दिये,कितने सुहाग, सुहागिन ने । कितने बच्चे पिता खो गये,कितने भाई, बहिन ने ।। बिलखती उन आँखो के आँसू,की कीमत है चुकवाना । उठो साथी कूच करो,पुकार रहा है पुलवामा …

pulvama Read More »

आमर प्रेमगाथाँ

◆Synopsis◆ *आमर प्रेमगाथाँ* यह प्रेम पर आधारित कहानी हैं जो यह बतलाती हैं किस प्रकार दो प्रेमीयो के प्रेम पथ मे संसार सामाजिक रूढ़ियो (जात-पात,ऊँच-नीच) की जंजीरे पैरो मे डालता हैं और आपने प्रेम को पाने के लिए प्रेमीजोडा़ सभी बाँधाओ से लड़कर आपने प्रेम को पाने मे सफल होते हैं और जो कहानी हालातो …

आमर प्रेमगाथाँ Read More »

नई पार्टी नए दल के I नए नेता नए कल के II

नया चेहरा नई चाहत I नए अर्मा नई राहत II नई ख्वाहिस नई मंजिल I नया माझी नई साहिल II अलग-सा है आज राहों में धुप का सुनेह्रापन I आएगा ओर भी अब मेरी चाहत में गहरापन II नई सासे नई खुश्बू I नए गेशु नया जादू II नई सुबह नई राते I नई यारी …

नई पार्टी नए दल के I नए नेता नए कल के II Read More »

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… दिया बुझाए जिया जलाए धुल उडाए साझ को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… बाते बनाए मुझको रिझाए शम्मा दिखाए चाँद को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… धुरी पे चुन्नी कि झुला डाले उन्घी लगाए झूले मे बाली बजाए सूरत सजाए आइना बनाए काच को झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी,……… प्रीत के गीत से मन मोहे खेत घुमाए रात …

झूठी-मुटी, झूठी-मुटी, झूठी-मुटी Read More »

मै जला, मै जला

मै जला, मै जला , देर शब मै जला I बुझ गए जलने वाले सब-के-सब मै जला II तूने देखा तेरे दर दिएँ जल बुझ गए I क्या देखा नहीं तूने रब मै जला II राख़ अपने बारे में मुझसे पूछ रहा था I मोहब्बत हुई मुझको कब, कब मै जला II चाँद को जब …

मै जला, मै जला Read More »