हरयाणवी सांस्कृतिक गीत

बाजरे की रुखाल

******बाजरे की रुखाल****** तेरे बाजरे की मैं ना बैठूं रुखाल हो पिया जी घर आंगण के काम भतेरे आजकाल हो पिया जी 2 ऊपर तै गर्मी का महीना तरसूं ठंडे पाणी नै खेतां बीच तू मत ना रुलावै तेरे आंगण की राणी नै लाडाँ गेल्याँ मा नै पाली काम कै हाथ ना लाण दिया बाबू …

बाजरे की रुखालRead More »

error: Content is protected !!